बैसाखी पर्व प्रमुख रूप से किसानों और फसलों की समृद्धता का त्यौहार माना जाता है, भारत में उस प्रत्येक वस्तु को सम्मान दिए जाने की परम्परा रही है, जिसे प्रकृति ने हमें स्नेह और अनुकंपा के साथ सौंपा है. अन्न भी प्रकृतिदत्त उसी उपहार का प्रतीक है, जिसका सम्मान करने की परंपरा का प्रतीक पर्व बैसाखी है. किसान इस दिन अपनी अच्छी फसल के लिए भगवान को धन्यवाद देते है और देश में अलग-अलग जगहों पर इसे विभिन्न नामों से मनाया जाता है, जैसे असम में बिहू, बंगाल में नबा वर्षा, केरल में पूरम विशु और पंजाब, हरियाणा में बैसाखी के नाम से लोग देशभर में इस दिन को मनाते हैं.

इस समय सूर्य की स्थिति में परिवर्तन होता है, जिसके बाद सूर्य की किरणों में तेजी निरंतर बढती जाती है. गर्म किरणों के चलते ही फसल तेजी से पक जाती है, जिसके चलते किसानों के लिए यह त्यौहार उत्सव की भांति मनाया जाता है. वैज्ञानिक तौर पर देखें तो मौसम में बदलाव होने से गर्मी अपने पूरे चरम होती है और इसी बदलाव को त्यौहार के रूप में मनाए जाने की हमारे देश में मान्यता रही है. फसलों, नदियों, वातावरण के सम्मान का सूचक बैसाखी आप सभी को मुबारक है.

अत: सुनहरी फसलों की आभा का प्रतीक बैसाखी, आप सभी को बहुत बहुत मुबारक हो. नवता और शुभता का परिचायक बैसाखी पर्व आप सभी के जीवन में भी नव मंगल का संचार करे, यह मेरी हार्दिक आशा है.

कोटि कोटि मंगलकामनाएं   

पंडित रामजी त्रिपाठी

गौ, गंगा, गरीब संरक्षक 

क्या यह आपके लिए प्रासंगिक है? मेसेज छोड़ें.

Must Read.

पंडित रामजी त्रिपाठी - दिव्यांग गौधाम के मध्य मनाया पूर्व सांसद श्री श्याम बिहारी मिश्रा जी का जन्मदिन

पंडित रामजी त्रिपाठी - दिव्यांग गौधाम के मध्य मनाया पूर्व सांसद श्री श्याम बिहारी मिश्रा जी का जन्मदिन

मनुष्य के आदर्शों से ही एक संस्कारी मानव का निर्माण होता है. हमारी भारतीय संस्कृति में व्यक्ति के संस्कारों को अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान दिया ......

पंडित रामजी त्रिपाठी – प्रतिवर्ष वैदिक परंपरा से मनाया जाएगा श्रद्धेय श्री सुभाष चंद्र शर्मा जी का जन्मदिवस

पंडित रामजी त्रिपाठी – प्रतिवर्ष वैदिक परंपरा से मनाया जाएगा श्रद्धेय श्री सुभाष चंद्र शर्मा जी का जन्मदिवस

दिव्यांग गौ धाम स्थित संस्कारशाला गौ ग्राम गौरी लक्खा, चौबेपुर (कानपुर) के अंतर्गत रामनवमी के पवित्र पावन दिवस के अवसर पर संस्कार परिवार के ......

पंडित रामजी त्रिपाठी - फसल की समृद्धि का प्रतीक पर्व बैसाखी, आप सभी के जीवन में मंगल का आगमन करे

पंडित रामजी त्रिपाठी - फसल की समृद्धि का प्रतीक पर्व बैसाखी, आप सभी के जीवन में मंगल का आगमन करे

बैसाखी पर्व प्रमुख रूप से किसानों और फसलों की समृद्धता का त्यौहार माना जाता है, भारत में उस प्रत्येक वस्तु को सम्मान दिए जाने की परम्परा रही......

पंडित रामजी त्रिपाठी – नवीन संकल्पों से भरे नव-संवत्सर की आप सभी को असीम शुभकामनाएं

पंडित रामजी त्रिपाठी – नवीन संकल्पों से भरे नव-संवत्सर की आप सभी को असीम शुभकामनाएं

प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्माचारिणी।तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम्।। पंचमं स्कन्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च। सप्तमं कालरा......

पंडित रामजी त्रिपाठी - संस्कार परिवार की संकल्प सभा : गंगा, गाय, गौरी की रक्षा एवं माता-पिता-गुरुजनों के सम्मान का लिया गया संकल्प

पंडित रामजी त्रिपाठी - संस्कार परिवार की संकल्प सभा : गंगा, गाय, गौरी की रक्षा एवं माता-पिता-गुरुजनों के सम्मान का लिया गया संकल्प

दिनांक - 18 सितम्बर, 2018 कानपुर, उत्तर प्रदेश सम्मानीय प्रबंधक श्री महिपाल सिंह जी की अध्यक्षता में निपुण अध्यापक/अध्यापिकाओं के सहित संस्क......

पंडित रामजी त्रिपाठी - धर्म अलग अलग उद्देश्य एक, मां गंगा को प्रदूषण मुक्त करना

पंडित रामजी त्रिपाठी - धर्म अलग अलग उद्देश्य एक, मां गंगा को प्रदूषण मुक्त करना

6 जुलाई, 2014.कानपुर, मां गंगा प्रदूषण मुक्ति अभियान समिति के तत्वधान में शनिवार को गोल चौराहा स्थित चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा के नीचे विभिन......

पंडित रामजी त्रिपाठी - रामजी त्रिपाठी 26 वीं बार बने यूपी रोडवेज यूनियन के अध्यक्ष

पंडित रामजी त्रिपाठी - रामजी त्रिपाठी 26 वीं बार बने यूपी रोडवेज यूनियन के अध्यक्ष

30 मई, 2015.यूपी रोडवेज इंप्लाइज के 52वें प्रांतीय अधिवेशन में हुए चुनाव में रामजी त्रिपाठी 26 वीं बार निर्विरोध प्रदेश अध्यक्ष चुने गए। महा......